अगले कुछ सालों में जनसंख्या मामले में चीन से आगे निकल जाएगा भारत, पढ़े पूरी खबर

0
175
प्रतिकात्मक फोटो
प्रतिकात्मक फोटो

नई दिल्ली/आशीष भट्ट। हर साल 11 जुलाई को विश्व जनसंख्या दिवस के रूप में बनाया जाता है. हर साल विश्व जनसंख्या दिवस बनाने का उद्देश्य लोगों को बढ़ती आबादी के प्रति सचेत करना है. वर्तमान में विश्व की आबादी 7 अरब है. विश्व जनसंख्या दिवस मनाने की शुरूआत सन 1989 में हुई थी.

ये भी पढ़ें ऑफिस में काम करते हुए रखें इन बातों का खास ध्यान, हमेशा रहेंगे टेंशन फ्री

लगातार बढ़ती जनसंख्या को रोकने और लोगों को जागरूक करने के लिए 11 जुलाई 1989 को संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम की एक सभा ने विश्व जनसंख्या दिवस मनाया था. तब से हर साल 11 जुलाई को विश्व जनसंख्या दिवस मनाया जाता है.

जानिए जनसंख्या से जुड़ी कुछ रोचक बातें

वर्तमान में भारत की आबादी लगभग 1 अरब 35 करोड़ है.

एक रिपोर्ट में यूएन ने अनुमान लागाया है कि 2023 तक पूरी दुनिया कि आबादी 8 अरब से ज्यादा हो जाएगी.

ये भी पढ़ें चाणक्य की इन 5 बड़ी बातों को रखें हमेशा याद, जरूर होंगे कामयाब

यूएन ने अनुमान लगाया है कि 2056 तक पूरे विश्व की आबादी 10 अरब हो जाएगी, जोकि विश्व के लिए चिंताजनक है.

युएन ने आशंका जताई है कि 2025 से 2030 के बीच भारत की जनसंख्या चीन से अधिक हो जाएगी, वर्तमान में चीन की जनसंख्या 140 करोड़ के आसपास है.

2030 तक ही भारत की जनसंख्या 1 अरब 65 करोड़ होने का अनुमान है

अभी सबसे ज्यादा आबादी वाला देश चीन है और उसके बाद भारत का नंबर आता है.

यूएन की रिपोर्ट के मुताबिक आने वाले तीस सालों में भारत की जनसंख्या में 27 करोड़ का इजाफा हो सकता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here