उत्तराखंड की ये जगह, प्रकृति की सुंदरता का एक ख़ूबसूरत नमूना है

0
375

नई दिल्ली/ दीक्षा शर्मा। भारत में खूबसूरत जगहों की कोई कमी नहीं है. कहते है प्रकृति को क़रीब से देखना हो और उनकी गोद में रहने का सच्चा आंनद पाना हो तो उत्तराखंड बिल्कुल सही जगह है. जहां लोग शांति और सुकून की तलाश में जाते है. उत्तराखंड को से देवताओं की भूमि भी कहा जाता है. आपको बता दे कि स्वामी विवेकानंद भी अल्मोड़ा में साधना करने आया करते थे. उन्हें अल्मोड़ा बेहद पसंद था. हम आपको उत्तराखंड कि बेहद ख़ूबसूरत क्षेत्र अल्मोड़ा के बारे में बताएंगे. उत्तराखंड के कुमाऊं क्षेत्र में स्थित अल्मोड़ा अपने वन्य – जीवन, संस्कृति और व्यंजनों के लिए प्रसिद्ध है.

अल्मोड़ा के मंदिर

अल्मोड़ा मंदिरों के नाम से भी जाना जाता है लेकिन, नंदा देवी मंदिर यहां के प्रमुखों मंंदिरों में एक है. नगर से कुछ दूर पर ग्वेल देवता का मंदिर है, जिन्हें न्याय का देवता भी कहा जाता है. इस मंदिर में लोग भगवान को चिठ्ठी लिख मनोकामना पूरी होने की कामना करते हैं. मनोकामना पूरी होने पर यहां पर घंटी चढ़ाने की परंपरा है. सितंबर, अक्टूबर हर साल नंदा देवी में भव्य आयोजन होता है. अल्मोड़ा की बात की जाए तो यह क्षेत्र मंदिरों से घिरा हुआ है. इसके अलावा भी यहां कई मंदिर हैं- जागेश्वर धाम, गैराड़ ग्वेल देवता का मंदिर.

एतिहासिक चर्च

अल्मोड़ा नगर में स्थित चर्च ब्रिटिश कालीन है. ये खूबसूरत चर्च इस नगर की खूबसूरती में चार चांद लगाने का काम करता है. अल्मोड़ा नगर में स्थित यह मेथोडिस्ट गिरजाघर 2 मार्च 1897 को बनकर तैयार हुआ था।

शिक्षा का केंद्र

अल्मोड़ा को शिक्षा का केंद्र भी कहा जाता है. कुमाऊं विश्वविद्यालय का सबसे बड़ा कैंपस भी इसी नगर में है. दूर- दराज पहाड़ से यहां लोग पढ़ाई करने के लिए आते हैं. ये नगर सड़क मार्ग से पूरे कुमाऊं क्षेत्र से जुड़ा हुआ है, जिस वजह से लोग यहां आसानी से पहुंच सकते हैं.

जीरो प्वॉइंट

जीरो प्वॉइंट एक टॉवर है.जिसे बिन्सर वन्यजीव अभयारण्य के केंद्र में दिल में बनाया गया है . Zero Point बिंसर में मौजूद है. बिनसर जीरो प्वाइंट, बिनसर वन्यजीव का उच्चतम सहूलियत बिंदु है, जहाँ से कोई भी हिमालय की सुंदरियों के 360 डिग्री के दृश्य को देख सकता है, जैसे केदारनाथ, शिवलिंग, त्रिशूल और निला देवी चोटियों का समूह जीरो पॉइंट के चारों ओर प्राकृतिक सौंदर्य दिखाई देता है.

कुछ ख़ास है यहां की मिठाई

बाल मिठाई को उत्तराखंड की चॉकलेट भी कहा जाता है. अल्मोड़ा की बाल मिठाई देश में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी मशहूर है. सिर्फ बाल मिठाई ही नहीं यहां की और मिठाईयां भी काफी स्वादिष्ट होती हैं. चॉकलेट जैसी दिखने वाली बाल मिठाई खाकर लोग इसका स्वाद वर्षों तक नहीं भूल पाते.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here