Rahasya: क्या था वह श्राप जिस कारण समुन्द्र का पानी हो गया था खारा, जानिए पौराणिक कथा

0
339
Rahasya

नई दिल्ली/दीक्षा शर्मा। (Rahasya) यह तो हम सभी जानते हैं कि समुंद्र का पानी खारा होता है. लेकिन कहते हैं कि समुद्र का पानी शुरुआत से खारा नहीं था. पौराणिक कथा के अनुसार कहा जाता है कि एक श्राप के कारण समुन्द्र का पानी खारा हुआ था. उससे पहले समुन्द्र का पानी दूध जैसा सफ़ेद और मीठा था. इसके पीछे जहां कई वैज्ञानिक कारण है तो इससे जुड़ी कई पौराणिक कथाएं भी प्रचलित हैं.

ये भी पढ़ें Kajari Teej 2020: कब है कजरी तीज, जानिए इसका महत्व और इससे जुड़ी मान्यता

शिव पुराण के अनुसार माता पार्वती ने शिव का पाने के लिए कठोर तपस्या की थी, उनकी इसी तपस्या और लगन को देख तीन लोग भयभीत हो गए थे और इस समस्या का समाधान निकालने लगे. उसी समय समुन्द्र देवता पार्वती को देख मोहित हो गए. जैसे ही माता पार्वती की तपस्या समाप्त हुई समुन्द्र देवता ने उनके सामने शादी का प्रस्ताव रख दिया. वह प्रस्ताव देख माता पार्वती ने उन्हें बताया कि मैं भगवान शिव की हो चुकी हूं.

ये भी पढ़ें क्या आप जानते हैं सीता स्वयंवर में भगवान राम द्वारा तोड़े गए “शिव धनुष” का रहस्य, पढ़िए

समुन्द्र देवता ने माता पार्वती से कहा कि उस भास्मधारी आदिवासी में क्या रखा है जो मेरे पास नहीं है. मेरा चरित्र दूध की तरह सफ़ेद है और मैं सभी मनुष्यों की प्यास बुझाता हूं. भगवान शिव के लिए भला बुरा सुन कर माता पार्वती को क्रोध आता है और वह समुन्द्र देवता को श्राप देती हैं कि जिस जल पर तुम इतना घमंड और अंहकार दिखा रहे हो वो खारा हो जाएगा. कोई भी मनुष्य तुम्हारा जल ग्रहण नहीं कर पाएगा.

ये भी पढ़ें तो इसलिए नहीं करनी चाहिए कुंवारी लड़कियों को शिवलिंग की पूजा, जानिए धार्मिक कारण

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here